October 5, 2022
Types Of Loans In Hindi

Loan के कितने प्रकार होते है ? | Type Of Loans In Hindi

Type Of Loans In Hindi :- आजकल तेजी से बदलती हुई भारतीय अर्थव्यवस्था में मध्यम वर्गीय परिवार व ग़रीबों के लिए अपने सपनों को पूरा करना अत्यंत कठिन होता जा रहा है।

ऐसे में यदि आप अपना स्वयं का बिज़नेस खड़ा करना चाहते हैं या घर बनाना चाहते हैं या अन्य किसी भी प्रकार की आर्थिक सहायता चाहते हैं, तो आप बैंकों से लोन ले सकते हैं। क्या आप Type Of Loans In Hindi ढूंढ रहे हैं ?

इस आर्टिकल में आज हम Type Of Loans In Hindi के बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे और देखेंगे, कि कौन-कौन से लोन हम बैंकों से प्राप्त कर सकते हैं।

जहाँ एक ओर महंगाई, बेरोजगारी दर आसमान छू रही है, वहीं दूसरी ओर लोगों को न्यूनतम आवश्यकता की वस्तुएँ भी उपलब्ध नही हो पा रही। ऐसे में यदि आप अलग-अलग लोन के बारे में जानना चाहते हैं तो आप एकदम सही जगह पर हैं।


1. पर्सनल लोन ( Personal Loan )

पर्सनल लोन किसी भी प्रकार की फाइनेंशियल इमरजेंसी या आवश्यकता को पूरा करने के लिए लिया जा सकता है, जो अन्य लोन से इसे बेहतर बनाता है, साथ ही यह एक Unsecure लोन है, जिसमें आपको कुछ भी गिरवी या सिक्योरिटी देनी की आवश्यकता नही पड़ती और ना ही कुछ कोलेटरल जमा करना होता है। पर्सनल लोन लेने के बाद इसका भुगतान 12 से 60 महीनों के बीच करना होता है।


विशेषताएँ और लाभ

  • पर्सनल लोन लेने के लिए गिरवी रखने की आवश्यकता नही होती।
  • अधिकतम अमाउंट के रूप में 40 लाख रुपये तक लोन प्राप्त हो सकता है इससे ज्यादा अमाउंट बैंक के ऊपर निर्भर है, वो आपकी फाइनेंशियल कंडीशन देख कर दे सकते हैं।
  • किसी भी प्रकार की इमरजेंसी के लिए इस लोन को ले सकते हैं या कुछ खरीदने के लिए भी पर्सनल लोन प्राप्त कर सकते हैं।
  • इस लोन का भुगतान आपको 60 महीनों के अंदर करना होता है।
  • इसमें बहुत कम डॉक्युमेंटेशन है।

ब्याज दर

पर्सनल लोन के लिए ब्याज दर प्रत्येक बैंक में अलग-अलग होती है, कहीं कम तो कहीं बहुत अधिक ब्याज चुकाना पड़ती है।

पर्सनल लोन लेते समय आपको ब्याज दर को अच्छे से समझना होता है और हो सके, तो सभी बैंकों के ब्याज का आकलन कर लेना चाहिए, जहां आपको कम ब्याज दर में पर्सनल को मिले आप वहां से पैसा ले सकते हैं, वैसे तो बैंकों द्वारा लिया जाने वाला ब्याज दर आवेदक के सिविल स्कोर, आय, रोज़गार और लोन के भुगतान की समय सीमा पर निर्भर करता है।

भिन्न-भिन्न बैंकों में ब्याज दर भी अलग-अलग होती है जो 9% से लेकर 27% वार्षिक हो सकती है।


2. गोल्ड लोन

गोल्ड लोन  सिक्योर्ड लोन होता है, जहां गोल्ड पैसे के बदले गिरवी रखा जाता है। गोल्ड लोन अल्प कालीन अवधि के लिए दिया जाने वाला लोन है, हमारे द्वारा दिये गए गोल्ड को बैंक इसकी भुगतान अवधि तक बैंक लॉकर में सुरक्षित रखती है।

यह एक इमरजेंसी फण्ड की तरह है, जो लो इंटरेस्ट पर मिलता है इसकी आवश्यकता कभी भी पड़ सकती है, जैसे स्वास्थ्य संम्बधी परेशानी, शादी, घर बनवाने में, पढाई और अन्य कामों के लिए, सोने की कीमत वैश्विक बाजार में तेजी से बढ़ रही है और स्थिर है, इसलिए इसे पैसे में बदलने में बहुत आसानी होती है।

किसी भी आपातकालीन स्थिति में पैसे की आवश्यकता को गोल्ड लोन तुरन्त पूरा करने का सबसे बेहतर विकल्प है, क्योंकि बहुत ही कम डॉक्युमेंटेशन के साथ बैंक इसके बदले में पैसा दे देते हैं। बैंक सोने की कीमत को उसकी प्युरिटी और वैल्यू के आधार पर तय करती है।

वित्तीय विशेषज्ञ मानते हैं, कि किसी भी आपात स्थिति में गोल्ड लोन अन्य सभी लोन से बेहतर है, क्योंकि दूसरे किसी भी लोन का इंटरेस्ट रेट काफी हाई होता है जबकि गोल्ड लोन का ब्याज दर तुलनात्मक रुप से बहुत कम होता है, साथ ही इसके बदले बैंक से पैसा लेना बहुत ही Easy होता है, वैसे तो गोल्ड की मार्केट वैल्यू का 75% तक पैसा लोन के रुप में आसानी से मिल जाता है।


3. Security के बदले मिलने वाला लोन

बैंक आपके सिक्युरिटीज को गिरवी रखकर आपको पैसे देती है। यदि आपको किसी भी प्रकार की इमरजेंसी में तत्काल पैसे की आवश्यकता होती है, तो आप सिक्युरिटीज के बदले लोन ले सकते हैं, यह बहुत अच्छा विकल्प है, हालांकि यह थोड़ा धीमा प्रक्रिया है पर इससे आप बहुत कम ब्याज दरों पर लोन प्राप्त कर सकते हैं।

इसमें सिक्युरिटीज को गिरवी रखा जाता है और यह Equity, Mutual Fund, बीमा पॉलिसी, शेयर और बांड के रुप में होती है, इनके बदले में आसानी से लोन मिल जाता है और यह लोन लम्बे समय के लिए भी होता है और कम समय के लिए भी होता है यह काफी पॉपुलर तरीका है, लोन प्राप्त करने का।

लोन कितना मिलेगा यह आपकी सिक्योरिटी की वैल्यू पर Depend करता है, जैसे Equity शेयर के लिए आपको 50% तक और बैंक डिपाजिट पर आपको 90% तक का लोन मिलता है।


4. प्रॉपर्टी लोन

बैंकों से लोन प्राप्त करने का सबसे आसान तरीका है, कि आप अपनी सम्पत्ति को बैंक के पास गिरवी रखकर उसके बदले में कम इंटरेस्ट पर पैसे प्राप्त कर सकते हैं।

प्रॉपर्टी के रूप में आपका घर या खेत हो सकता है इसकी मार्केट वैल्यू का 80% आपको मिल जाता है। यदि आपकी सम्पत्ति की मार्केट वैल्यू ज्यादा है तो आपको और अधिक अमाउंट बैंक से लोन के रूप में प्राप्त हो जाएगा।

इसे मॉर्गेज लोन भी कहते हैं, जो एक प्रकार का सिक्योर्ड लोन है, जिसमें एसेट को गिरवी रखकर लोन प्राप्त कर सकते हैं। इस लोन की पुनर्भुगतान अवधि Unsecured लोन की तुलना में 18 वर्ष की दीर्घकालिक होती है, इससे बड़ी रकम ली जा सकती है। जिससे बड़े खर्चों को पूरा किया जा सके।


5. एजुकेशन लोन

उच्च शिक्षा प्राप्त करना आज के समय में और अधिक कठिन होता जा रहा है, ग़रीब मध्यमवर्गीय परिवार के लिए यह एक सपने के जैसे होता था, लेकिन आजकल बैंक होनहार स्टूडेंट्स को एजुकेशन लोन देने लगे हैं, जिससे प्रतिभावान छात्र अपनी पढ़ाई पूरी कर सके इस लोन को प्राप्त कर आप विदेश में भी जाकर पढाई कर सकते हैं, इस लोन को प्राप्त करने के लिए आपको बैंकों के टर्म और कंडीशन को पूरा करना होगा उसके बाद आप एजुकेशन लोन लेकर अपनी पढ़ाई पूरी कर सकते हैं।


6. कार्पोरेट लोन

व्यवसायियों को अपने व्यवसाय को बड़ा करने के लिए बहुत अधिक कैपिटल की आवश्यकता होती है, जिसके लिए उन्हें दो प्रकार के लोन मिलते हैं, जिसमें एक सुरक्षित लोन कहते हैं और दूसरे को असुरक्षित लोन कहते हैं।

सुरक्षित लोन के लिए आपको कोई सिक्युरिटीज गिरवी रखनी होगी, इसके बदले बैंक आपको बहुत कम इंटरेस्ट में लांग टर्म के लिए बहुत अधिक पैसा दे सकता है, जब आप तय समय अवधि में भुगतान नही कर पाते, तो बैंक सिक्युरिटीज को ज़ब्त कर लेती है।


अवधि के अनुसार लोन तीन प्रकार की होती है

  1. अल्पकालिक लोन – पैसे लौटाने की अवधि 1 साल से कम
  2. मध्यकालिक लोन – पैसे लौटाने की अवधि 1 से 3 साल के मध्य
  3. दीर्घकालिक लोन – पैसे लौटाने की अवधि 3 साल से ज्यादा

निष्कर्ष :-

आज के इस लेख में Type Of Loans In Hindi के बारे में विस्तार पूर्वक चर्चा की है।

उम्मीद करते हैं, की यह जानकारी आपको पसन्द आयी होगी। यदि अभी भी आपके मन में इससे जुड़ा कोई प्रश्न है तो आप हमें कमेंट या मेल कर सकते हैं।

Read Also :-

Leave a Reply

Your email address will not be published.